शादी की सालगिराह मुबारक हो

सामान्य
‘शा’श्वत है इस जग में आपका प्रम,
‘दी’पक के समान उज्ज्वल भी है;
‘की’मत आँकना है अति दुष्कर,
‘सा’मर्थ्य तो इसमे प्रबल ही है ।
‘ल’हू के रग-रग में है व्याप्त,
‘गि’रि सम हरदम अटल भी है ;
‘रा’त्रि के धुप्प तिमिर में भी,
‘ह’मेशा चन्द्र सम धवल भी है ।
‘मु’मकिन नहीं यह राह बिन आपके,
‘बा’तों से सिर्फ कुछ कह नहीं सकता;
‘र’हे ये साथ यूँ ही बना हुआ,
‘क’लम से ज्यादा कुछ लिख नहीं सकता ।
‘हो’ ऐसा कि यह दिन यूँ ही हर बार आता रहे ।

इस कविता के प्रत्येक पंक्ति का पहला अक्षर मिलाने पर-“शादी की सालगिराह मुबारक हो” )

(यह कविता हमारी शादी की वर्षगाँठ पर मेरी जीवन साथी ‘मानसी’ को समर्पित ।)

Advertisements

6 responses »

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s