हर शख्स दिल का सहारा नहीं होता

सामान्य

राह-ए-जिन्दगी में करोड़ों से होती है मुलाकात,
ऐ “दीप” हर शख्स दिल का सहारा नहीं होता ।
समन्दर में चाहे जिस ओर मोड़ लो कश्ती,
अफसोस! हर तरफ एक किनारा नहीं होता ।
चंद लोग हर कदम पे चलते साथ-साथ,
सब लोग के मरजी पे वश हमारा नहीं होता ।
चंद लोग ही सफर को आसाँ हैं करते,
हर कोई दिल-ए-गुलजार तुम्हारा नहीं होता ।
सफर में गर कोई छोड़ देता है हाथ,
चंद साथ के छुटने से कोई बेसहारा नहीं होता ।
निकाल लो चाहे झील से कुछ पानी,
उस पानी के लिए झील कभी बेजारा नहीं होता ।

Advertisements

3 responses »

  1. चंद लोग हर कदम पे चलते साथ-साथ,सब लोग के मरजी पे वश हमारा नहीं होता pradeep ji bahut sundar bhavabhivyakti hai fir bhi yadi aapko sahi lage to har kadam pe chalte ke bad ''hain'' aur sab log ko ''logon kee''kar len to meri alp buddhi se ye jyada achchha lagega.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s