मोमबत्ती

सामान्य
एक मोमबत्ती जलती जाती,
जल-जल के कुछ कहती जाती;
ताप में खुद को पिघलाती,
रौशन जहाँ को कर जाती|

एक धागे से संजोग बनाती,
अद्भुत लौ ये दिखलाती;
तूफ़ान से अगर ये लड़ जाती,
जब तक न बुझे लडती जाती|

हर मानव को कुछ सिखलाती,
मानवता का ये पाठ पढ़ाती;
परहित ही सर्वोपरि है,
खुद जलकर सबको बतलाती|

हर कष्ट को खुद ही सह जाती,
औरों का भला करती जाती;
क्षण-क्षण विलुप्त होती जाती,
पर हर पल को दहका जाती|

हर किरणें उसकी समझाती,
लड़ने का बल ये दिलवाती;
अंतर्मन में उल्लास ये भरती,
खुशियों के दरश ये करवाती|

माना की ये गलती जाती,
पर पुनः पुनः जमती जाती;
उठ-उठ कर तुम लड़ते जाओ,
इस जोश को हममे भर जाती|

Advertisements

One response »

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s