कलम

सामान्य

(यह मेरी पहली कविता है | यह मैंने तब लिखी थी जब मैं आठवीं कक्षा में था| )

 

कलम शान है हम बच्चों की, छात्रों का हथियार है,

यही कलम दिलवाता सबको, सारा अधिकार है |

 

है कलम छोटा शस्त्र, पर इसकी शक्ति अपार है,

बड़े-बड़े वीर आगे इसके बन जाते चिड़ीमार हैं |

 

इसके बल पर मिट सकता जो फैला अनाचार है,

हरेक देश की गरिमा है यह, सबका जीवन सार है |

 

दीखता है छोटा लेकिन यह शिक्षा का भंडार है,

कलम से तुलना करने पर छोटा पड़ता तलवार है |

 

मान बचाने को कलम की, हम बिलकुल तैयार हैं,

इससे नाता जोड़ ले प्यारे हो सकता उद्धार है |

 

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s