आधुनिकता

सामान्य

आधुनिक बनने कि होड़ में, भूल गए हम नैतिक मूल्यों को ;

पूरखों से आ रही शिक्षा को, भूल गए हम शिष्टता और मानवता को |

 

चाहा था जिसे पूर्वजों ने कभी, पीढ़ी दर पीढ़ी बढ़ता ही जाये ;

अफ़सोस ! न समझे, हम नासमझ, लात मारी किया दूर उन रत्नों को |

 

रहने का ढंग, बोलने का चलन, पहनावा आदि कई जीवन के रंग ;

बद से भी बदतर हुए जा रहे, फिर भी है न होश हम अनजानों को |

 

गीता के मर्म भी हमे दिखते नहीं, राम-जीवन का गुढ़ भी नहीं है पता ;

दुनिया संग हम भी चकाचौंध के मारे, क्या हो रहा है ये खबर किसको ?

 

छाता है बादल आसमान पर भी, पर रहता नहीं वह सदा के लिए ;

पर आधुनिकता जो छाया है हम पर, बड़ा मुश्किल हटाना है इस बादल को |

 

कल तक जिसे थे अनैतिक समझते, उसको भी इसने जायज कर दिया ;

कुछ भी करते हैं नाम इसका लेकर, ताक में रख कर अपनी संस्कृति को |

 

चादर को ओढ़ आधुनिकता की, अंधों की दौड़ में दौड़े जा रहे ;

खड्ड में जा गिरे या हो अपना पतन, भाई मोडर्न हैं ! रोको मत हम दीवानों को |

 

मोडर्न ! मोडर्न ! सब चीखे जा रहे, मृगतृष्णा के पीछे चले जा रहे ;

पर अब तक किसी ने भी देखा नहीं, क्या खो रहे हम और इसकी कीमत को |

 

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s