याद

सामान्य

एक आग सी दील मी लगती है, एक तीर जीगर में चलता है;
जब याद इसी की आती है, एक दर्द सा दील में उठता है।

sirf एक झलक बस पाने को, ये नैन तरसने लगते हैं;
ये हालत उसे बताने को ये होंठ तड़पने लगते हैं।

आहट उसकी सुनने को ये कान फड़कने लगते हैं;
और सोच के उसकी बातों को ये आँख बरसने लगते हैं।

ये जाती नहीं जब आती है, बस आती है और आती है;
बेखबर करके दुनीया से, ये याद बहुत सताती है।

जब याद की बदरी छाती है, हर शमा धुंधला होता है;
हर रात ही काली होती है, जब याद कीसी की आती है।

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s